50+ Ishq Shayari In Hindi | इश्क शायरी हिंदी में

Ishq Shayari In Hindi: आपका स्वागत मेरी नई पोस्ट में जिसमे आपके साथ शेयर कर रहा हूं ishq shayari, romantic shayari in hindi. जिसको आप कॉपी या पेस्ट करें तो सोशल मीडिया साइट्स या एप्स मी शेयर कर सकते हैं।

Best ishq shyaari in hindi

Ishq Shayari In Hindi | इश्क शायरी हिंदी में
Ishq Shayari In Hindi

गम ने हसने न दिया, ज़माने ने रोने न दिया!

इस उलझन ने चैन से जीने न दिया!

थक के जब सितारों से पनाह ली!

नींद आई तो तेरी याद ने सोने न दिया!

उगता हुआ सूरज दुआ दे आपको!

खिलता हुआ फूल खुशबू दे आपको!

हम तो कुछ देने के काबिल नहीं है!

देने वाला हज़ार खुशिया दे आपको!

बेताब तमन्नाओ की कसक रहने दो!

मंजिल को पाने की कसक रहने दो!

आप चाहे रहो नज़रों से दूर!

पर मेरी आँखों में अपनी एक झलक रहने दो!

वो वक़्त वो लम्हे कुछ अजीब होंगे!

दुनिया में हम खुश नसीब होंगे!

दूर से जब इतना याद करते है आपको!

क्या होगा जब आप हमारे करीब होंगे?

ishq shayari in hindi

Ishq Shayari In Hindi
Ishq Shayari In Hindi

कोई कहता है प्यार नशा बन जाता है!

कोई कहता है प्यार सज़ा बन जाता है!

पर प्यार करो अगर सच्चे दिल से, तो वो प्यार ही जीने की वजह बन जाता है

आँखों में तेरी डूब जाने को दिल चाहता है!

इश्क में तेरे बर्बाद होने को दिल चाहता है!

कोई संभाले मुझे, बहक रहे है मेरे कदम!

वफ़ा में तेरी मर जाने को दिल चाहता है!

इस कदर हम उनकी मुहब्बत में खो गए!

कि एक नज़र देखा और बस उन्हीं के हम हो गए!

आँख खुली तो अँधेरा था देखा एक सपना था!

आँख बंद की और उन्हीं सपनो में फिर सो गए!

किसी के दिल में बसना कुछ बुरा तो नहीं !

किसी को दिल में बसाना कोई खता तो नहीं !

गुनाह हो यह ज़माने की नज़र में तो क्या !

ज़माने वाले कोई खुदा तो नहीं !

किस्मत से अपनी सबको शिकायत क्यों है?

जो नहीं मिल सकता उसी से मुहब्बत क्यों है?

कितने खायें है धोखे इन राहों में!

फिर भी दिल को उसी का इंतजार क्यों है?

ishq shayari hindi

Ishq Shayari In Hindi
Ishq Shayari In Hindi

कभी किसी से प्यार मत करना!

हो जाये तो इंकार मत करना!

चल सको तो चलना उस राह पर!

वरना किसी की ज़िन्दगी ख़राब मत करना!

प्यार कमजोर दिल से किया नहीं जा सकता!

ज़हर दुश्मन से लिया नहीं जा सकता!

दिल में बसी है उल्फत जिस प्यार की!

उस के बिना जिया नहीं जा सकता!

तुझे भूलकर भी न भूल पायेगें हम!

बस यही एक वादा निभा पायेगें हम!

मिटा देंगे खुद को भी जहाँ से लेकिन!

तेरा नाम दिल से न मिटा पायेगें हम!

मुहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं!

प्यार सिर्फ पाने का नाम नहीं!

मुद्दतें बीत जाती हैं किसी के इंतज़ार में!

ये सिर्फ पल-दो-पल का काम नहीं!

जब कोई ख्याल दिल से टकराता है!

दिल न चाह कर भी, खामोश रह जाता है!

कोई सब कुछ कहकर, प्यार जताता है!

कोई कुछ न कहकर भी, सब बोल जाता है!

mohabbat ishq shayari

Ishq Shayari In Hindi
Ishq Shayari In Hindi

दिल को था आपका बेसबरी से इंतजार!

पलके भी थी आपकी एक झलक को बेकरार!

आपके आने से आयी है कुछ ऐसी बहार!

कि दिल बस मांगे आपके लिये खुशियाँ बेशुमार!

चहरे पर हंसी छा जाती है!

आँखों में सुरूर आ जाता है!

जब तुम मुझे अपना कहते हो,

अपने पर गुरुर आ जाता है!

अगर तुम न होते तो ग़ज़ल कौन कहता!

तुम्हारे चहरे को कमल कौन कहता!

यह तो करिश्मा है मोहब्बत का!

वरना पत्थर को ताज महल कौन कहता!

तुम्हारे नाम को होंठों पर सजाया है मैंने!

तुम्हारी रूह को अपने दिल में बसाया है मैंने!

दुनिया आपको ढूंढते ढूंढते हो जायेगी पागल!

दिल के ऐसे कोने में छुपाया है मैंने!

मोहब्बत मुझे थी उसी से सनम!

यादों में उसकी यह दिल तड़पता रहा!

मौत भी मेरी चाहत को रोक न सकी!

कब्र में भी यह दिल धड़कता रहा!

romantic ishq shayari

जब तक तुम्हें न देखूं!

दिल को करार नहीं आता!

अगर किसी गैर के साथ देखूं!

तो फिर सहा नहीं जाता!

इश्क मुहब्बत तो सब करते हैं!

गम - ऐ - जुदाई से सब डरते हैं

हम तो न इश्क करते हैं न मुहब्बत!

हम तो बस आपकी एक मुस्कुराहट पाने के लिए तरसते हैं!

माना की तुम जीते हो ज़माने के लिये!

एक बार जी के तो देखो हमारे लिये!

दिल की क्या औकात आपके सामने!

हम तो जान भी दे देंगे आपको पाने के लिये!

उदास नहीं होना, क्योंकि मैं साथ हूँ!

सामने न सही पर आस-पास हूँ!

पल्को को बंद कर जब भी दिल में देखोगे!

मैं हर पल तुम्हारे साथ हूँ!

मोहब्बत ऐसी थी कि उनको दिखाई न दी!

चोट दिल पर थी इसलिए दिखाई न गयी!

चाहते नहीं थे उनसे दूर होना पर!

दुरिया इतनी थी कि मिटाई न गयी!

adhura ishq shayari

प्यार कमजोर दिल से किया नहीं जा सकता!

ज़हर दुश्मन से लिया नहीं जा सकता!

दिल में बसी है उल्फत जिस प्यार की!

उसके बिना जिया नहीं जा सकता!

आज असमान के तारों ने मुझे पूछ लिया;

क्या तुम्हें अब भी इंतज़ार है उसके लौट आने का!

मैंने मुस्कुराकर कहा;

तुम लौट आने की बात करते हो;

मुझे तो अब भी यकीन नहीं उसके जाने का!

माना आज उन्हें हमारा कोई ख़याल नहीं;

जवाब देने को हम राज़ी है, पर कोई सवाल नहीं!

पूछो उनके दिल से क्या हम उनके यार नहीं;

क्या हमसे मिलने को वो बेकरार नहीं!

रेत पर नाम कभी लिखते नहीं;

रेत पर नाम कभी टिकते नहीं;

लोग कहते है कि हम पत्थर दिल हैं;

लेकिन पत्थरों पर लिखे नाम कभी मिटते नहीं!

महोब्बत और नफरत सब मिल चुके हैं मुझे;

मैं अब तकरीबन मुकम्मल हो चोका हूँ!

ishq shayari gulzar

इश्क के रिश्ते कितने अजीब होते है?

दूर रहकर भी कितने करीब होते है;

मेरी बर्बादी का गम न करो;

ये तो अपने अपने नसीब होते हैं!

वो खुद पर गरूर करते है, तो इसमें हैरत की कोई बात नहीं!

जिन्हें हम चाहते है, वो आम हो ही नहीं सकते!

कोई ठुकरा दे तू हंस के सह लेना;

मोहब्बत की ताबित में ज़बरदस्ती नहीं होती!

ये वफ़ा तो उस वक्त की बात है ऐ फ़राज़;

जब मकान कच्चे और लोग सच्चे हुआ करते थे!

कोई अच्छा लगे तो उनसे प्यार मत करना;

उनके लिए अपनी नींदे बेकार मत करना;

दो दिन तो आएँगे खुशी से मिलने;

तीसरे दिन कहेंगे इंतज़ार मत करना!

कृष्ण ने राधा से पूछा: ऐसी एक जगह बताओ, जहाँ में नहीं हूँ?

राधा ने मुस्कुराके कहा, `बस मेरे नसीब में`!

अजीब खेल है ये मोहब्बत का;

किसी को हम न मिले, कोई हमें ना मिला!

ishq shayari 2 lines

फूल खिलते रहे जिंदगी की राह में;

हंसी चमकती रहे आपकी निगाह में;

कदम कदम पर मिले ख़ुशी की बाहर आपको;

दिल देता है यही दुआ बार-बार आपको;

वेलेंटाइन डे की शुभकामनाए!

कभी हँसता है प्यार, कभी रुलाता है प्यार;

हर पल की याद दिलाता है यह प्यार;

चाहो या न चाहो पर आपके होने का एहसास दिलाता है ये प्यार;

वेलेंटाइन डे की शुभकामनाए!

खींच लेती है मुझे उसकी मोहब्बत;

वरना मै बहुत बार मिला हूँ आखरी बार उससे!

उसने देखा ही नहीं अपनी हथेली को कभी;

उसमे हलकी सी लकीर मेरी भी थी!

तुम्हारे पास नहीं तो फिर किस के पास है?

वो टुटा हुआ दिल, आखिर गया कहाँ!

ये डूबने वाले का ही होता हे कोई फन;

आँखों में किसी के भी समंदर नहीं होता!

gulzar ishq shayari

दिल की धड़कन और मेरी सदा है वो;

मेरी पहली और आखिरी वफ़ा है वो;

चाहा है उसे चाहत से बड़ कर;

मेरी चाहत और चाहत की इंतिहा है वो!

तुम मुझे मौका तो दो ऐतबार बनाने का;

थक जाओगे मेरी वफाओं के साथ चलते चलते!

तमाम नींदें गिरवी हैं हमारी उसके पास;

जिससे ज़रा सी मुहब्बत की थी हमनें!

बस इतना ही कहा था, कि बरसो के प्यासे हैं हम;

उसने अपने होठों पे होंठ रख के, हमे खामोश कर दिया!

उनके आने के इंतज़ार में हमनें;

सारे रास्ते दिएँ से जलाकर रोशन कर दिए!

उन्होंने सोचा कि मिलने का वादा तो रात का था;

वो सुबह समझ कर वापस चल दिए।

बेवाफायों की इस दुनियां में संभलकर चलना मेरे दोस्तों;

यहाँ बर्बाद करने के लिए, मुहब्बत का भी सहारा लेते हैं लोग!

sad ishq Shayari

मेरे इश्क ने सीख ली है, अब वक़्त की तकसीम...

वो मुझे बहुत कम याद आता है;

सिर्फ इतना - दिल की हर एक धड़कन के साथ!

बड़ी मुददत के बाद मिलने वाली थी कैद से आज़ादी;

पर किस्मत तो देखो, जब आज़ादी मिलने वाली थी;

तब तक पिंजरे से प्यार हो चुका था!

अगर आपको मेरा इश्क़ शायरी इन हिंदी का कलेक्शन पसंद आया हो तो कमेंट करना.

Also Read

Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: